कहीं आपका बैंकिंग डेटा लिक तो नहीं हो रहा, Android स्मार्टफोन का करें सावधानी से इस्तेमाल | The Tech Blog World Hindi
टेक्नोलॉजी लोगों को दुनिया से जोड़ती है.



Author Bio


chandan kumar dwivedi

Chandan Kumar Dwivedi, Admin/Author

Chandan Kumar Dwivedi Started This Media/News Website On Feb, 2016. He has a B.tech, ECE Engineering Degree From MDU, Rohak, Haryana, India. He Is The Admin, Writer & Website Owner Of This Website. To Know More About Chandan Kumar Dwivedi, Visit His Social Profile On Team Section. Visit Here.




द टेक ब्लॉग वर्ल्ड न्यूज़लेटर

ई-मेल के द्वारा न्यूज़लेटर पाने लिए हमारे न्यूज़ को सब्सक्राइब करें

सुनिश्चित करें कि आप हमारे न्यूज़लेटर कार्यक्रम में शामिल होने से लेटेस्ट टेक्नोलॉजी न्यूज़ को मिस नहीं करना चाहेंगे।

अपना ईमेल पता दर्ज करें:


अगर आपको लगता है, यह पोस्ट उपयोगी है। अगर आपको यह पोस्ट पसंद आए तो कृपया इस पोस्ट को शेयर करें :


फॉलो द टेक ब्लॉग वर्ल्ड

सम्बंधित टॉपिक्स :

कहीं आपका बैंकिंग डेटा लिक तो नहीं हो रहा, Android स्मार्टफोन का करें सावधानी से इस्तेमाल

मीडिया सिक्योरिटी एजेंसी, सिक्योरिटी रिसरचर्स और सूत्रों से पता क्ला है की अब एक तरह का वायरस ट्रेंड माइक्रो है जो गुप्त तरह से आपका डेटा लिक कर रहा है। वायरस वाले इन एप्स का नाम करेंसी कनवर्टर और बैटरीसेवरमोबी है। ये दोनों एप्स उस वक्त भी काम करते हैं जब आप अपने फोन के साथ कहीं जाते हैं उसे कहीं रखते हैं या इधर से उधर करते हैं।

मीडिया सिक्योरिटी एजेंसी, सिक्योरिटी रिसरचर्स और सूत्रों से पता क्ला है की अब एक तरह का वायरस ट्रेंड माइक्रो है जो गुप्त तरह से आपका डेटा लिक कर रहा है। वायरस वाले इन एप्स का नाम करेंसी कनवर्टर और बैटरीसेवरमोबी है।


नई दिल्ली, द टेक ब्लॉग वर्ल्ड: क्या आपके फोन में कभी कोई फाइल या एप ऐसा है जिसको डाउनलोड करने के बाद आपके फोन हैंग होने की समस्या हुई हो? कई बार ऐसा होता है और कई बार नहीं। आपको यह जानना बेहद जरुरी है कि आजकल कई वायरस आपके फोन में गलत एप डाउनलोड करने की वजह से आ रहें हैं और कहीं न कहीं आपकी डेटा को लीक भी कर रहें हैं और आपको भनक तक नहीं लग रही है। इसका मुख्य कारण है आपका एप्स डाउनलोड करना। जी हां हम आजकल किसी भी एप को अपने फोन में अगर डाउनलोड करते हैं तो हमें उसकी जानकारी नहीं होती कि आखिर वो फोन में क्या करेगा और कैसे काम करेगा या फिर क्या डेटा लेगा क्या डेटा नहीं लेगा। ऐसे ही कुछ एक वायरस भी कर रहा है जो किसी एप को इंस्टॉल करने के बाद आपके फोन में आ रहा है और फिर आपकी निजी जानकारी को लीक कर रहा है। लेकिन वायरस और ऐसे एप्स बनाने वाले लोग उस समय चौंक जाते हैं जब सिक्योरिटी रिसरचर्स इन वायरस का पता लगाकर इन्हें हमेशा के लिए हटा देते हैं।

लेकिन अब एक तरह का वायरस सिक्योरिटी रिसरचर्स की नजर में आया है जो ट्रेंड माइक्रो है। आपको जानकार हैरानी होगी की वायरस वाले इन एप्स का नाम करेंसी कनवर्टर और बैटरीसेवरमोबी है। ये दोनों एप्स उस वक्त भी काम करते हैं जब आप अपने फोन के साथ कहीं जाते हैं उसे कहीं रखते हैं या इधर से उधर करते हैं। लेकिन यहां सवाल भी उठता है कि ये चलते हुए भी कैसे आपको सेंस कर लेता है? आपको बता दें कि अगर किसी व्यक्ति के फोन से ये मोशन सेंसर जानकारी ले लेता है तो ये उस व्यक्ति के फोन में इंस्टॉल है तो वहीं अगर कोई मोशन सेंसर जानकारी नहीं है तो एप को आसाना से सिक्योरिटी रिसरचर्स पकड़ सकते हैं।
[ads-post]
अगर एप्स मोशन को नहीं पकड़ पाते हैं तो ये नॉर्मल एप्स की तरह ही काम करेंगे। लेकिन अगर ये मोशन को डिटेक्ट कर लेते हैं तो आपके फोन में Anubis ट्रोजन वायरस आ जाएगा।

आपको बता दें कि ट्रोजन खुब द खुद आपके फोन में नहीं आता है बल्कि यूजर्स को ये कहा जाता है कि वो दोनों एप्स का अपग्रेडेड वर्जन डाउनलोड करें। इससे Anubis आ जाता है, इसके बाद ये आपको सिक्रेट डेटा को लीक करने का काम करता है। तो अगर ऐसा आपके साथ होता है तो ये आपके स्क्रीनशॉट। पासवर्ड, लॉगइन सबकुछ एक्सेस कर लेगा। ये वायरस आपको फोन के ऑडिया भी रिकॉर्ड कर सकता है।

यह भी पढ़ें : 


WhatsApp Android ऐप पर ग्रुप कॉल करना हुआ अब और भी आसान

क्या आप जानते हैं क्रोम ब्राउज़र का स्मार्ट यूज कैसे किया जाता है, नहीं जानतें फॉलो करें ये टिप्स

कैसे करें लैपटॉप को अपने टीवी डिवाइस से कनेक्ट?

Written & Posted By : चन्दन कुमार द्विवेदी

टिप्पणी पोस्ट करें

[disqus][facebook]

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget