भारत मार्च में चंद्रयान-2 मिशन से चीन समेत अन्‍य देशों को दे सकेगा कड़ी टक्‍कर | The Tech Blog World Hindi
टेक्नोलॉजी लोगों को दुनिया से जोड़ती है.



Author Bio


chandan kumar dwivedi

Chandan Kumar Dwivedi, Admin/Author

Chandan Kumar Dwivedi Started This Media/News Website On Feb, 2016. He has a B.tech, ECE Engineering Degree From MDU, Rohak, Haryana, India. He Is The Admin, Writer & Website Owner Of This Website. To Know More About Chandan Kumar Dwivedi, Visit His Social Profile On Team Section. Visit Here.




द टेक ब्लॉग वर्ल्ड न्यूज़लेटर

ई-मेल के द्वारा न्यूज़लेटर पाने लिए हमारे न्यूज़ को सब्सक्राइब करें

सुनिश्चित करें कि आप हमारे न्यूज़लेटर कार्यक्रम में शामिल होने से लेटेस्ट टेक्नोलॉजी न्यूज़ को मिस नहीं करना चाहेंगे।

अपना ईमेल पता दर्ज करें:


अगर आपको लगता है, यह पोस्ट उपयोगी है। अगर आपको यह पोस्ट पसंद आए तो कृपया इस पोस्ट को शेयर करें :


फॉलो द टेक ब्लॉग वर्ल्ड

सम्बंधित टॉपिक्स :

भारत मार्च में चंद्रयान-2 मिशन से चीन समेत अन्‍य देशों को दे सकेगा कड़ी टक्‍कर

साल 2021 के दिसंबर महीने में गगनयान मिशन के जरिये तीन लोगों को अंतरिक्ष में भेजेगा। यह देश का पहला ऐसा मानव मिशन होगा जिसमें तीन लोगों को अंतरिक्ष में एक साथ भेजा जायेगा।

यह भारत देश का पहला ऐसा मानव मिशन होगा जिसमें इसरो साल 2021 के, दिसंबर माह में गगनयान मिशन के द्वारा अंतरिक्ष में तीन लोगों को भेजेगा।

भारत मार्च में चंद्रयान-2 मिशन से चीन समेत अन्‍य देशों को दे सकेगा कड़ी टक्‍कर
इसरो  चंद्रयान-2 मिशन
नई दिल्‍ली, द टेक ब्लॉग वर्ल्ड : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी इसरो इस साल मार्च के आखिरी हफ्ते में चन्द्रमा की सतह पर चन्द्रयान-2 मिशन को पूरा करेगा। आप को बता दें कि इसरो के चेयरमेन डॉ. के सिवन ने कहा है कि भारत का अतंरिक्ष कार्यक्रम बेहद ही एडवांस्‍ड है। इसरो चेयरमैन के मुताबिक मानें तो भले ही चीन ने मानव मिशन पहले ही पूरा कर लिया हो लेकिन जब भारत 2021 में अतंरिक्ष में इंसान को भेजेगा तो वो चीन के स्पेस टेक्‍नोलॉजी के बिलकुल बराबरी पर आ जाएगा।

वहीँ बता दें कि इसरो साल 2021 के दिसंबर महीने में गगनयान मिशन के जरिये तीन लोगों को अंतरिक्ष में भेजेगा। यह देश का पहला ऐसा मानव मिशन होगा जिसमें तीन लोगों को अंतरिक्ष में एक साथ भेजा जायेगा और इस मिशन से पहले इससे जुड़ी तैयारियों को अच्छी तरह से जांच परख लेने के मकसद से दिसंबर 2020 और जुलाई 2021 तक दो मानव रहित यान अतंरिक्ष में भेजे जाएंगे।

साथ ही साथ इसरो के चेयरमैन डॉ. के० सिवन के अनुसार “हम किसी भी मामले में चीन से अब पीछे नहीं हैं वो स्पेस में मानव मिशन का अभियान कर चुके हैं लेकिन जब हम सफलतापूर्वक गगनयान मिशन को पूरा कर लेंगे तो हम चीन के बिल्कुल बराबर में खड़े हो जाएंगे।’’

गगनयान मिशन की सारी बारीकियों को जांचने और परखने के लिए जिन दो मानवरहित मिशन किए जाएंगे, उसमें इसरो मानव न भेजकर इंसान द्वारा बनाएं गये रोबोट को भेजेगा। ये रोबोट इस बात की जांच करेंगे कि कहीं अंतरिक्ष यान में कोई खामी तो नहीं है। यही नहीं वो ये भी पता लगाएगा कि जब मानव युक्त अंतरिक्ष यान स्पेस में भेजे जाएंगे तो उसमें किसी तरह कि दिक्कत तो नहीं आएगी।

[ads-post]
इसरो के सीनियर वैज्ञानिक विवेक सिंह के मुताबिक, ‘आज के युग में तकनीकी काफी एडवांस्‍ड हो चुकी है. पहले जब मानव स्पेस में भेजे गए तो उससे पहले अंतरिक्ष यान में जानवरों को रखा गया था, इसका मकसद ये था कि ये देखा जा सके कि अंतरिक्ष में जीवन के लिए क्या-क्या जरूरी है लेकिन अब ऐसा करने की कोई जरूरत नहीं है। अब हमारे पास रोबोट हैं उनमें सेंसर लगे हैं और वो ये पता कर सकते हैं कि अतंरिक्ष यान को किस चीज की जरूरत हैं’’
 
ये साल इसरो के लिए काफी अहम है, जहां मार्च के आखिरी हफ्ते तक चंद्रयान-2 की लांचिंग होनी है. वहीं इस साल कुल 32 लांचिंग के कार्यक्रम हैं। इसमें 14 लांच व्‍हीकल और 18 उपग्रहों को अंतरिक्ष में भेजा जाना है। चन्द्रयान-2 को इस साल जनवरी के महीने में लांच किया जाना था लेकिन डिजाइन में कुछ बदलाव किए जाने से इसमें देरी लग रही है. नए डिजाइन में 600 किलोग्राम की बढोतरी की गई है।

इस महीने चीन का खोजी यान चेंग ई-4 (Chang’e-4) चन्‍द्रमा की दूसरी ओर उतरने में सफल हो गया है. चीनी वैज्ञानिकों का दावा है यह पहला अवसर है जब कोई यान चन्‍द्रमा की दूसरी ओर उतरा है. इस यान में वैज्ञानिक अनुसंधान और खोज के लिए उपकरण लगे हुए हैं. हालांकि चीन चन्‍द्रमा की सामने वाली सतह पर पृथ्‍वी से भेजे गए कई यान पहले ही उतार चुका है।

इसरो युवा प्रतिभाओं को अपने स्पेस कार्यक्रम से जोड़ना चाहता है और इसी मकसद को ध्यान में रखते हुए ‘संवाद विद स्टूडेंट’ नाम से एक नए प्रोगाम की शुरुआत की गई है इस कार्यक्रम के जरिये उन छात्र और छात्राओं को इसरो से जोड़ेगा जिनमें प्रतिभा है


यह भी पढ़ें : 

क्या आप जानते हैं क्रोम ब्राउज़र का स्मार्ट यूज कैसे किया जाता है, नहीं जानतें फॉलो करें ये

गणितज्ञों द्वारा खोजी गई एक कंप्यूटर समस्या को कभी भी कोई हल नहीं कर सकता है

डिजिटल क्रांति के लिए भारत में VLSI उद्योग की भूमिका: चंदन कुमार द्विवेदी

Written & Posted By : चन्दन कुमार द्विवेदी
पोस्ट लेबल्स :

एक टिप्पणी भेजें

[disqus][facebook]

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget